हनीट्रैप मामले में 8 रसूखदारों के नाम सामने आए

जीवन अनमोल है इसे आत्महत्या कर नष्ट नहीं करें !

मास्क लगाकर रहें ! सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें !

संस्कार सृजन राम गोपाल सैनी

मध्यप्रदेश (संस्कार सृजन) मध्यप्रदेश का बहुचर्चित हनीट्रैप मामला फिर गरमाता जा रहा है। मामले में आरोपी आरती दयाल के परिवार पर उस याचिका को वापस लेने के लिए रसूखदार दबाव बना रहे हैं, जिसमें इन रसूखदारों को मोनिका यादव की मानव तस्करी में आरोपी बनाए जाने की मांग की है। ​आरती दयाल की तरफ से वकील मानसमणि वर्मा ने यह याचिका लगाई थी। हाईकोर्ट ने 8 लोगों को नोटिस भेजकर 4 हफ्ते में जवाब मांगा है। अब उनकी मुश्किलें बढ़ना तय है।

आरती दयाल के वकील ने दावा किया कि आरती के परिजन के पास मंगलवार को उन 3 लोगों ने फोन किए, जिन्हें नोटिस जारी हुए हैं। वकील का कहना है कि दबाव बनाने की शिकायत कुछ दिनों में सबूत के साथ कोर्ट से की जाएगी। आरती दयाल की याचिका पर 8 लोगों को नोटिस भेजा गया है। नोटिस में जवाब मांगा गया है कि मोनिका यादव की मानव तस्करी मामले में उन्हें आरोपी क्यों न बनाया जाए? इन 8 लोगों में पूर्व मंत्रियों के ओएसडी भी शामिल हैं।

मोनिका यादव के पिता ने इंदौर के पलासिया थाने में बेटी की मानव तस्करी की शिकायत दर्ज कराई थी। इसमें आरती दयाल, श्वेता जैन, अभिषेक समेत 4 लोगों को आरोपी बनाया गया था। मोनिका यादव ने मुख्य परीक्षण के दौरान दिए बयान में 11 लोगों के नाम बताए थे। बाद में वह आरती दयाल, अभिषेक, श्वेता को छोड़कर बाकी लोगों के नाम से मुकर गई।

मुख्य परीक्षण के दौरान मोनिका के बयानों को आधार बनाकर आरती ने हाईकोर्ट में याचिका लगा दी। याचिका में उसने मांग की थी कि मोनिका की तरफ से मुख्य परीक्षण के दौरान लिए गए सभी नामों को उसी तरह आरोपी बनाया जाए, जिस तरह उस जैसे तीन अन्य लोगों को बनाया गया है। इस पर हाईकोर्ट ने उन सभी लोगों को नोटिस भेजा है, जिनके नाम मोनिका ने लिए थे। वर्तमान में आरती इंदौर जेल में बंद है।


इन 8 लोगों को नोटिस
1. 
अमित टेरासा
2. मनोज त्रिवेदी
3. अरुण सहलोत
4. अरुण निगम
5. हरीश खरे
6. राजेश गुप्ता
7. हरभजन सिंह
8. मनीष अग्रवाल


ये किए गए थे गिरफ्तार
मामले में पुलिस ने भोपाल की संदिग्ध मास्टरमाइंड श्वेता स्वप्निल जैन, श्वेता विजय जैन सहित पांच महिलाओं और एक पुरुष को गिरफ्तार किया था।

हनीट्रैप की सूत्रधार थी श्वेता विजय जैन
हनीट्रैप कांड की मुख्य आरोपी श्वेता विजय जैन अफसर और नेताओं से आरती समेत गिरोह में शामिल युवतियों की दोस्ती करवा देती थी। बाद में आरती उन्हें अपने जाल में फंसा कर वीडियो बना लेती थी। फिर श्वेता के इशारे पर रुपए वसूलने का काम होता था।


हम सभी किसी ना किसी रूप में जरूरतमंदों की सेवा कर सकते हैं | पड़ोसी भूखा नहीं सोए इसका ध्यान रखें |

" संस्कार सृजन " कोरोना योद्धाओं को दिल से धन्यवाद देता है |

विडियो देखने के लिए -https://www.youtube.com/channel/UCDNuBdPbTqYEOA-jHQPqY0Q 

अपने आसपास की खबरों , लेखों और विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 9214996258, 7014468512,9929701157.



इमरजेंसी नंबर :- पुलिस कंट्रोल रूम- 100, चौमूं थाना - 01423-221009, डीसीपी पूर्व- 0141-2203400, एसीपी चौमूं -01423-221456, गोविंदगढ़ थाना-01423-230023, डीएसपी गोविंदगढ़-01423-230905, जयपुर ग्रामीण एसपी-0141-2206869, एंबुलेंस-108, सीएचसी चौमूं -01423-221424, सीएचसी गोविंदगढ़ - 01423-230077, सीएचसी सामोद-01423-240105, बिजली हेल्पलाइन-6376917467, एक्स ईएन चौमूं-01423-220069, एईएन प्रथम-01423-220006, एईएन द्वितीय-01423-220013, निगम सामोद-01423-240004.

Post a Comment

0 Comments