आखिर 3 घंटे में कैसे होगी शादी ??

जीवन अनमोल है इसे आत्महत्या कर नष्ट नहीं करें !

मास्क लगाकर रहें ! सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें !

संस्कार न्यूज़ राम गोपाल सैनी

जयपुर (संस्कार न्यूज़ ) प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने शादी-समारोह करने के लिए छूट तो दे दी, लेकिन अब उस पर सवाल उठने लगे है। प्रशासन ने केवल 3 घंटे का समय शादी-समारोह को सम्पन्न करने का दिया है, जबकि वास्तविकता में हिंदू रीति-रिवाज में 2 से 2:30 घंटे फेरे और एक घंटे का सिंयाला और वरमाला जैसी रस्मों में ही पूरा जो जाता है। फोटोग्राफी और खाना आदि कार्यक्रम में समय जो लगे वो अलग है।

राज्य सरकार ने शुक्रवार को कोरोना संक्रमण कंट्रोल के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। इस गाइडलाइन में शादी समारोह के लिए नये नियम निर्धारित किए है। अब किसी भी परिवार को जो शादी-समारोह करना चाहता है उसे 3 घंटे के अंदर सभी कार्यक्रम निपटाने होंगे। यानी इन तीन घंटे के अंदर उसे 50 लोगों काे भोजन करवाने, बरात का स्वागत, वरमाला, फेरे सहित अन्य तमाम रस्मे निभानी होगी।

शादी करने वाले पंडितों की मानें तो सिंयाला (बरात की अगवानी) में होने वाली पूजा व अन्य औपचारिकताओं में 45-50 मिनट का समय लगता है। इसमें वर पक्ष बड़े बुजुर्गो, महिलाओं का वधु पक्ष की ओर से स्वागत होता है। वर की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इसके अलावा वरमाला में भी 25-30 मिनट का समय लगता है। वहीं फेरे और विदाई की रस्मे विधि-विधान से पूरा करें तो इसमें ढाई से तीन घंटे तक का समय लगता है। ऐसे में 3 घंटे के अंदर शादी-समारोह सम्पन्न करना बहुत मुश्किल है ।

दूसरे जिले में कैसे जाएगी बारात

एक दुल्हे ने बताया की मेरी शादी 30 अप्रैल की है और बारात अजमेर जानी है। अजमेर जाने के लिए परिवार के 20-25 लोग अपने निजी वाहनों से जाने की तैयारी में है, लेकिन अब यह समस्या आ रही है कि 26 अप्रैल से जब एक जिले से दूसरे जिले में आवाजाही बंद हो जाएगी तो बारात में लोग कैसे जाएंगे।

टेंट की दुकानें बंद सामान कैसे आएगा

इधर टेंट, कैटरिंग, विवाह स्थल से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि 3 घंटे के अंदर कैसे शादी-समारोह का आयोजन हो सकता है। टेंट वालों ने बताया कि एक तरफ सरकार ने शादी-समारोह की अनुमति दे रखी है, वहीं दूसरी तरफ टेंट की दुकानें बंद कर रखी है। ऐसे में हम सरकार से मांग करते है कि एक मई से सरकार शादियों पर सम्पूर्ण बैन लगा दें। इससे पहले शादियों की सामान्य अनुमति रहने दे, ताकि जिन लोगों ने शादी-समारोह के कार्ड बांट दिए और रस्मे शुरू कर दी, वे अपने कार्यक्रम कर दें।


हम सभी किसी ना किसी रूप में जरूरतमंदों की सेवा कर सकते हैं | पड़ोसी भूखा नहीं सोए इसका ध्यान रखें |

" संस्कार न्यूज़ " कोरोना योद्धाओं को दिल से धन्यवाद देता है |

विडियो देखने के लिए -https://www.youtube.com/channel/UCDNuBdPbTqYEOA-jHQPqY0Q 

अपने आसपास की खबरों , लेखों और विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 9214996258, 7014468512,9929701157.

Post a comment

0 Comments