बाय कस्बे मे गणगौर महोत्सव धूमधाम से मनाया

जीवन अनमोल है , इसे आत्महत्या कर नष्ट नहीं करें !

मास्क लगाकर रहें ! सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें !

संस्कार न्यूज़ @ राम गोपाल सैनी / विजेंद्र सिंह दायमा 

बाय / सीकर (संस्कार न्यूज़) बाय कस्बे में गणगौर गणगौर का त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया। गणगौर के दिन युवतियां कुआ बावडियो पर से हरी दूब लाकर बड़े ही हर्ष और उल्लास के साथ पूजा अर्चना की। युवतियों ने सोलह दिनो तक गणगौर ऐ गणगौर माता खोल किवाड़ी, काचा कारचा गोवलिया कुन काट सीजी राज, ऊंचो छीवरों चोखो उठो सहित गीतों के साथ पूजा अर्चना कर अपने पीहर व ससुराल में सुख समृद्धि की कामना करते हुए अमर सुहाग की प्रार्थना की।

राजस्थानी परंपरा के अनुसार मान्यता है कि गणगौर राजस्थान का एक प्रमुख त्यौहार है जो चैत्र महीने की शुक्ल पक्ष की तीज को आता है। इस दिन विवाहित महिलाओं सहित अविवाहित लड़कियां शिवजी इसर और पार्वती गौरी की पूजा करती हैं। पूजा करते हुए दूब से पानी के छांटे देते हुए गोर गोर गोमती गीत गाती हैं। गणगौर पूजा में आस्था प्रेम और पारिवारिक सौहार्द का सबसे बड़ा उत्सव है। गण यानी कि शिव और गौर यानी कि पार्वती के इस पर्व में अविवाहित लड़कियां मनपसंद वर पाने की कामना करती हैं। 

विवाहित महिलायें चैत्र शुक्ल तृतीया को गणगौर पूजन तथा व्रत कर अपने पति की दीर्घायु की कामना करती हैं। साथ ही कस्बे में कई महिलाओं ने गणगौर का उद्यापन भी किया।कोरोनावायरस के चलते इस बार भी कस्बे में ईसर गणगौर की शोभायात्रा नहीं निकाली गई ।कोविड-19 की गाइड लाइन की पालना करते हुए सभी महिलाओं ने सोशियल डिस्टेंस व मास्क लगाकर ईसर गणगौर की पूजा कर कामना की |


हम सभी किसी ना किसी रूप में जरूरतमंदों की सेवा कर सकते हैं | पड़ोसी भूखा नहीं सोए इसका ध्यान रखें |

" संस्कार न्यूज़ " कोरोना योद्धाओं को दिल से धन्यवाद देता है |

विडियो देखने के लिए -https://www.youtube.com/channel/UCDNuBdPbTqYEOA-jHQPqY0Q 

अपने आसपास की खबरों , लेखों और विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 9214996258, 7014468512,9929701157.

Post a comment

0 Comments