Ad Code

संकट की घड़ी में मोटर व्हीकल टैक्स में छूट से मिली बड़ी राहत


जीवन अनमोल है , इसे आत्महत्या कर नष्ट नहीं करें !

 

मास्क लगाकर रहें ! सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें !




संस्कार न्यूज़ @ राम गोपाल सैनी / गोविंद सैनी




जयपुर @ (संस्कार न्यूज़ ) मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बुधवार शाम को उनके राजकीय निवास पर प्रदेश के विभिन्न निजी बस ऑपरेटर्स ने मुलाकात कर मोटर व्हीकल टैक्स में दी गई छूट के लिए गहलोत का आभार व्यक्त किया। इन निजी बस ऑपरेटर्स ने कहा कि संकट की इस घड़ी में मोटर वाहन टैक्स में छूट देकर गहलोत ने उन्हें बड़ी राहत दी है। पूरे प्रदेशभर के निजी बस संचालकों को मुख्यमंत्री के इस संवेदनशील फैसले से बड़ा संबल मिला है।





उल्लेखनीय है कि गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई बैठक में कोविड-19 लॉकडाउन के कारण निजी बसों का संचालन नहीं होने के आधार पर प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर्स का अप्रेल, मई एवं जून माह का शत-प्रतिशत मोटर व्हीकल टैक्स माफ करने का निर्णय किया गया था। इसके अतिरिक्त जुलाई, अगस्त एवं सितम्बर माह के लिए भी मोटर वाहन कर में राहत देने का फैसला किया गया था।

 

ऑल राजस्थान कांट्रेक्ट कैरिज बस ऑपरेटर्स एसोसिएशन के राजेन्द्र शर्मा, स्टेज कैरिज एसोसिएशन के कैलाश शर्मा, टूरिस्ट बस एसोसिएशन के अनिल जैन सहित अन्य निजी बस ऑपरेटर्स ने कहा कि प्रदेशभर में करीब 30 हजार से अधिक निजी बसें हैं। गहलोत के इस संवेदनशील निर्णय से इन बसों के संचालकों में खुशी है। 

 

परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि कोरोना संकट की इस घड़ी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने समाज के हर वर्ग को राहत प्रदान की है। बस ऑपरेटर्स की पीड़ा को समझते हुए लिया गया यह फैसला भी इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। 

 

इस अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा, अतिरिक्त मुख्य सचिव परिवहन राजीव स्वरूप, परिवहन आयुक्त रवि जैन तथा सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी भी उपस्थित रहे |



हम सभी किसी ना किसी रूप में जरूरतमंदों की सेवा कर सकते हैं | पड़ोसी भूखा नहीं सोए इसका ध्यान रखें |




" संस्कार न्यूज़ " कोरोना योद्धाओं को दिल से धन्यवाद देता है |


विडियो देखने के लिए - https://www.youtube.com/channel/UCDNuBdPbTqYEOA-jHQPqY0Q 




अपने आसपास की खबरों , लेखों और विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 9214996258, 7014468512, 8058171770.






Post a comment

0 Comments