"गुरु संदीपन आश्रम" के खिलाफ की गई कार्रवाई में मनमानी करने का लगाया आरोप

जीवन अनमोल है , इसे आत्महत्या कर नष्ट नहीं करें !

मास्क लगाकर रहें ! सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें !

संस्कार न्यूज़ @ राम गोपाल सैनी 

प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर आयोग पर लगाया मनमानी करने का आरोप 

सभी 29 बच्चों के अभिभावकों की छात्रावास में रखने की बताई सहमती

असम, उत्तर प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, त्रिपुरा, बिहार राज्यों के हैं छात्र 

सामाजिक सहयोग से संचालित की जा रही सभी गतिविधियाँ 

बच्चों के बंधक बनाकर रखने के आरोप को नकारा 

पास ही के सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं सभी बच्चे 

कंप्यूटर और सिलाई का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा बच्चों को 

सरकार से बच्चों को तुरंत संस्था को सौंपने की मांग की 

छात्रावास संचालन की अनुमति भी प्रदान की जाए 

चौमूं (संस्कार न्यूज़) टाटियावास टोल प्लाजा के पास भारतीय विद्या निकेतन प्रबंध समिति टाटियावास और भारतीय जन सेवा प्रतिष्ठान द्वारा संचालित "गुरु संदीपन आश्रम" में आज पदाधिकारियों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई |पदाधिकारियों ने राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा की गई कार्यवाही को मनमाना बताया | 

प्रेस कॉन्फ्रेंस में विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश मंत्री सुरेश उपाध्याय ,भारतीय विद्या निकेतन प्रबंध समिति टाटियावास के उपाध्यक्ष सांवरमल सोलेट, कोषाध्यक्ष रामकरण कुमावत ने बताया कि हमारी संस्था जयपुर रजिस्ट्रार संस्था द्वारा पंजीकृत है और 1991 से विद्यालय संचालित कर रही  है | जिसमें कंप्यूटर शिक्षा, कोचिंग आदि शैक्षणिक गतिविधियां चलाई जा रही है | आज से 2 वर्ष पूर्व छात्रावास चलाने का निर्णय समिति द्वारा हुआ था | छात्रावास चलाने के बाद में शिक्षा विभाग ,समाज कल्याण विभाग और बाल अधिकारिता विभाग से पत्र लिखकर छात्रावास चलाने की मान्यता के लिए निवेदन भी किया गया परन्तु विभाग द्वारा कोई भी उत्तर नहीं दिया गया | 

आश्रम में अलग-अलग राज्यों के 29 बच्चे रहकर अध्ययन करते हैं ,बच्चे अनाथ नहीं हैं | असम ,उत्तर प्रदेश ,अरुणाचल प्रदेश, मेघालय ,त्रिपुरा, बिहार आदि राज्यों के छात्र राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रामपुरा में अध्ययन कर रहे हैं | सभी छात्रों की भोजन व्यवस्था समाज के सहयोग से होती है | विद्यालय एवं छात्रावास का संचालन भी सामाजिक सहयोग से ही किया जा रहा है, कोई छुपी हुई बात नहीं है |

1 मार्च को रात्रि 11 बजे 27 बालकों को पुलिस कार्रवाई कर जबरन ले जाया गया | विद्यालय समिति एवं ग्राम वासियों के विरोध करने पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया जो गलत है | 

कॉन्फ्रेंस में पदाधिकारियों द्वारा राज्य सरकार और राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग से बच्चों को वापस  संस्था को सौंपाने और छात्रावास चलाने की मान्यता की कार्रवाई कर मान्यता देने की मांग की गई |

इस दौरान विश्व हिंदू परिषद के विभाग संगठन मंत्री राधेश्याम, आरएसएस के जिला कार्यवाहक हरफूल घोसल्या भी मौजूद रहे |

छात्र -देई जोपे और रोहित कुमार 

दो मौजूद बच्चों ने ये कहा - आश्रम में मौजूद बच्चों ने कहा कि हमें किसी के द्वारा भी बंधक नहीं बनाया गया है | हम अपने घरवालों की अनुमति से ही यहाँ रह रहे हैं | हम सरकारी स्कूल में पढने भी जाते हैं | खाना भी समय पर मिलता है | हमें कोई भी परेशानी नहीं है |




हम सभी किसी ना किसी रूप में जरूरतमंदों की सेवा कर सकते हैं | पड़ोसी भूखा नहीं सोए इसका ध्यान रखें |

" संस्कार न्यूज़ " कोरोना योद्धाओं को दिल से धन्यवाद देता है |

विडियो देखने के लिए -https://www.youtube.com/channel/UCDNuBdPbTqYEOA-jHQPqY0Q 

अपने आसपास की खबरों , लेखों और विज्ञापन के लिए संपर्क करें - 9214996258, 7014468512,9929701157.

Post a comment

0 Comments